INDEPENDENCE DAY

Excerpt: These poems are specially for every Indian. and who is proud to be an Indian. salute to all the heroes of our independence. jai hind, bharat mata ki jai..

Sponsored Links

 

INDEPENDENCE DAY - Collection of Hindi Poems

INDEPENDENCE DAY – Collection of Hindi Poems

Collection of Hindi Poems – INDEPENDENCE DAY( स्वतंत्रता दिवस )

1.रात के  अंधियारे  में ,

जब  तक रुतबा  रहेगा  चाँद  का ,

कारगिल  की  चोटियों  पर ,

तब  तक  फैरता  रहेगा  तिरंगा  शान  का .

धरती  क्या  आसमान  में ,

डंका  बजेगा  हिंदुस्तान  नाम  का ….

 

2.गली  गली   में  तूफ़ान  है ,

आबो  हवा  में  खुसबू  है एक पहचान  की ,

जब  तक  सांस रहेगी  मुझमे ,

तब  तक  रक्षा  करूँगा  हिंदुस्तान  की ..

 

3.हार  के  बाद  जीत ,

खेल  का  अगला  चरम  है ,

सदा  फैरता  रहे  छोटी  पे

तिरंगा  यही  हमारा  प्रण है ,

न  हिन्दू  न  मुसलमान ,

इंसानियत   ही   सबसे  बड़ा  कर्म  है  ,

अरे  यारो  का  मुल्क  से  भी  बड़ा ,

कोई  धर्म है …..

 

INDEPENDENCE DAY( स्वतंत्रता दिवस )

लाल  रक्त  से  धरा  नहाई,

श्वेत  नभ  पर  लालिमा  छायी  ,

आजादी  के  नव  उद्घोष  पे ,

सबने  वीरो  की   गाथा  गायी ,

गाँधी ,नेहरु ,पटेल , सुभाष   की ,

ध्वनि  चारो  और   है  छायी ,

भगत , राजगुरु  और , सुखदेव  की

क़ुरबानी  से   आँखे   भर  आई ||

ऐ  भारत  माता  तुझसे  अनोखी ,

और  अद्भुत  माँ  न   हमने  पायी ,

हमारे   रगों  में  तेरे  क़र्ज़  की ,

एक  एक  बूँद  समायी .

माथे  पर  है     बांधे    कफ़न ,

और  तेरी  रक्षा  की  कसम  है  खायी ,

सरहद  पे  खड़े  रहकर ,

आजादी  की  रीत  निभाई ,

 

आजादी 

ये  कैसी  आज़ादी  है ,

हर  तरफ  बर्बादी  है ,

कही  दंगे  तो  कही  फसाद  है ,

कही  जात  पात  तो  कही ,

छुवा  छूत   की   बीमारी  है |

हर  जगह  नफरत   ही  नफरत ,

तो  कही  दहशत   के  अंगारे  है

क्या  नेता  क्या  वर्दी  वाले  ,

सभी  इसके  भागीदारी  है .

 

हम  तो  आज़ाद  हुए  लड़कर  पर ,

आज़ादी  के  बाद   भी  लड़  रहे  है ,

पहले  अंग्रेजो  से   लड़े  थे

अब  अपनों  से  लड़  रहे  है ,

आज़ादी  से  पहले  कितने ,

ख्वाब  आँखों  में  संजो   रखे  थे ,

अब  आजादी  के  बाद  वो ,

ख्वाब  ,ख्वाब  ही  रह  गए   है ,

अब  तो  अंग्रेज़ी  राज  और ,

इस  राज  में  फर्क  न  लगे ,

पहले  की  वह   बद   स्थिति

अब  बदतर  हो  गई  है ..

 

ये  कविता  हर  देशवासियों  तथा  मुख्य  रूप  से  उन्हें  समर्पित  है  जिन्होंने  26/11 को  हुए  आतंकी  हमले  को  सेहन  किया  | ये  कविता  हर  उस  शहीद   के  लिए  है  जिसने  आतंकियों  का   डट  कर  मुकाबला  किया

और  होंगे  धमाके ,और  फटेंगे  बम .

पर  हमारे  अन्दर  का  जोश  कभी  न  होगा  कम

हर  मुस्किल  परिस्थिति  में ,एक  रहेंगे  हम ,

पुरे  विश्व  में  कायर  नहीं  ,वीर  कहलायेंगे  हम ,

जी  तोड़  महनत  कर  लो ,पर  कभी   न  डरेंगे  हम ,

दामिनी  सा  गर्जायेंगे  किसी  भी  मौसम  में  हम ,

ये  धरा  हमारी  माता  है ,इसके  लाल  हम ,

इस  पर  वार  करने  वाला  हर  निशाचर  होगा  ध्वं .

देवो  की  इस  धरती  पे , एक  न   बचेगा  दशानन ,

खडग  उठाये  हम  खड़े ,आतंकियों  का  होगा  अंत

ऐ  शहीदों   तुम्हारे  बलिदानों  को

याद  रखेंगे   हम  ,

तुम्हारी  ही  तरह  इस  देश  के , वीर  कहलायेंगे  हम

__

About the Author

praveen rawat

PRAVEEN RAWAT from chamoli district. now lives in dehradun (uttrakhand) pursuing btech in chemical engineering: with specialization in petroleum started writing poem at the age of 9

Advertisements

INDEPENDENCE DAY 3.93/5(78.62%) 29 votes

Comments

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *