Bulaa Naa Saki Main Tujhe Aawaaz Dekar

Excerpt: This Hindi Poem highlights the deep feelings of distant lovers in which though the beloved was unable to call her Lover but She was still in a long wait for him. (Reads: 278)

 

green-eyes-girl

Hindi Love Poem – Bulaa Naa Saki Main Tujhe Aawaaz Dekar
Photo credit: taliesin from morguefile.com

बुला ना सकी मैं तुझे आवाज़ देकर ,
मगर फिर भी तेरा इंतज़ार करती रही मैं ,
पागल सी होकर तेरे इश्क़ में शायद ,
बिन पलकों को झपके तेरी राह तकती रही मैं ।

हर पल ये मुझे लगता था कि तू आएगा ,
मेरे होठों पर एक मुस्कान को खिलाएगा ,
बुला ना सकी मैं तुझे आवाज़ देकर ,
मगर फिर भी तेरी चाहत में जलती रही मैं ।

मुझे थी बेताबी जिस हसीं घडी की ,
उस पल का बहाना ढूँढा था मैंने ,
बुला ना सकी मैं तुझे आवाज़ देकर ,
मगर फिर भी हर पल में तड़पती रही मैं ।

तूने इशारा किया गर जो होता ,
मैं दौड़ी-दौड़ी सी आकर तेरे क़दमों पे गिरती ,
बुला ना सकी मैं तुझे आवाज़ देकर ,
मगर फिर भी तेरे क़दमों को गिनती रही मैं ।

तुझे खुदा माना मैंने ओ जाने – जाना ,
मैंने तेरी इबादत में सज़दे किये थे ,
बुला ना सकी मैं तुझे आवाज़ देकर ,
मगर तेरी परछाई की भी पूजा करती रही मैं ।

मुझे मिटने से ज्यादा तेरे साथ की खलिश थी ,
मैं सँवरती रही सिर्फ तेरे इश्क़ में ही ,
बुला ना सकी मैं तुझे आवाज़ देकर ,
मगर तेरे साथ को अपने सपनों में सँजोती रही मैं ।

तेरे इशारों पे गिरना फिर गिर के संभलना ,
मैं हर इशारे का मतलब अब समझने लगी हूँ ,
बुला ना सकी मैं तुझे आवाज़ देकर ,
मगर फिर भी तेरे इशारों पर मरती रही मैं ।

मुझे पागल अब लोग कहने लगे हैं ,
मैं प्यासी सी तेरी दीवानी हूँ शायद ,
बुला ना सकी मैं तुझे आवाज़ देकर ,
मगर अपनी दीवानगी से खुद डरती रही मैं ।

तूने साथ मेरे संग जितने भी पल थे बिताए ,
उन पलों में ही कर गई मैं तेरी गुलामी ,
बुला ना सकी मैं तुझे आवाज़ देकर ,
मगर फिर भी तेरी नीयत पर मरती रही मैं ।

तेरा इंतज़ार लगता है मुझे सबसे प्यारा ,
ना इसमें कोई बंदिश , ये है दिलों का खेल सारा ,
बुला ना सकी मैं तुझे आवाज़ देकर ,
मगर फिर भी तेरा इंतज़ार करती रही मैं ।।
***

About the Author

praveen gola

An online writer who is always willing to express the real thoughts of this cruel world.

Recommended for you

Comments

Leave a Reply