The Stone – Hindi Poem with Moral Values

Stoneमैं पत्थर हूँ तो क्या हुआ,
किसी के छडिक प्यार से द्रवित तो हुआ नहीं

मैं पत्थर हूँ तो क्या हुआ,
किसी छोटी सी ठोकर से टुटा तो नहीं,

मैं पत्थर हूँ तो क्या हुआ,
तुम्हे भीषड गर्मी और बरसात से बचाया तो हैं

मैं पत्थर हूँ तो क्या हुआ,
हे मानव तुमसे कुछ कम तो नहीं

NOTE: Contact us to report copyright violation. Wrong claim may have legal implication.
3376 reads
The Stone – Hindi Poem with Moral Values 4.59/5(91.76%) 17 votes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>